भगवान से प्रेम का बंधन वास्तव में ऐसा है, जो आत्मा को बांधता नहीं है बल्कि प्रभावी ढंग से उसके सारे बंधन तोड़ देता है।

~स्वामी विवेकानंद

Leave a Reply