Hindi small shayeri 98

बिछड़ के भी वो रोज़ मिलती है मुझे ख़्वाबों में, ये नींद भी ना होती, तो कब के मर गए होते..

local_offerevent_note February 28, 2018

account_box Just Oye

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *